खनिज विभाग की मनमानी से एक हजार से अधिक रेत खनन मजदूर बेरोजगार

मंदसौर। विगत कई दिनो से मंदसौर जिले में रेत की रायल्टी लेने की बजाय सीधे रूप से रेत कारोबार को ठप्प करने के कारण बडे पैमाने पर इससे जुडे मजदूर वर्ग प्रभावित हुये है। लगभग एक सप्ताह से खनिज विभाग द्वारा प्रदेश की कांग्रेस सरकार को बदनाम करने के लिये धरपकड अभियान चलाते हुये वाहन जब्त कर पेनल्टियां करने के कारण एक हजार से अधिक रेत के व्यवसाय से जुडे मजदूरो के बेरोजगार होेने पर कांग्रेस के वरिष्ठ पार्षद श्री विजय गुर्जर के नेतृत्व में रेत विक्रेताओं एवं मजदूर ने जिले के प्रभारी मंत्री को ज्ञापन सौंप तत्काल राहत की मांग की।
सोमवार को मंदसौर प्रवास पर आये जिले के प्रभारी मंत्री एवं प्रदेश के जलसंसाधन मंत्री श्री हुकुमसिंहजी कराडा से वरिष्ठ पार्षद श्री विजय गुर्जर के नेतृत्व में प्रभावित रेत विक्रेताओं एवं मजदूरो ने श्री कराडा से मिल अपनी व्यथा रखी। श्री गुर्जर ने प्रभारी मंत्री को ज्ञापन के माध्यम से बताया कि रेत विक्रेता रेत की रायल्टी देने के लिये तैयार है लेकिन खनिज विभाग द्वारा प्रदेश सरकार की निति का हवाला देते हुये बडे पैमाने पर रेत के ट्रेक्टर जब्त किये है जिन पर पेनल्टी लगाने के अलावा पांच दिन से अधिक होने के बावजुद नही छोडे जा रहे है जिससे दोहरी मार विक्रेताओं एवं मजदूरो पर पड रही है। श्री गुर्जर ने प्रदेश सरकार द्वारा नवीन खनिज निति के पूर्व मौजुदा निति के तहत रेत की रायल्टी वसुलने के निर्देश देने का आग्रह करते हुये खनिज विभाग के अधिकारियो द्वारा जारी अवैध वसुली से भी प्रभारी मंत्री को अवगत कराया।
प्रभारी मंत्री श्री कराडा ने इस मामले में श्री गुर्जर एवं रेत विक्रेताओं, मजदूरो को राहत देेने का आश्वास दिया।

एक नजर