फील्ड आऊटरीच ब्यूरो द्वारा ग्राम गुलियाना में स्वच्छता ही सेवा है विशेष कार्यक्रम संपन्न

मंदसौर। फील्ड आऊटरीच ब्यूरो ( सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार) द्वारा बुधवार को मंदसौर जनपद क्षेत्र के ग्राम गुलियाना में स्वच्छता ही सेवा है विशेष कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इस आयोजन में ग्राम पंचायत सरपंच श्रीमती ललीताबाई, जिला स्वास्थ्य विभाग के मिडीया अधिकारी डॉ एमएल कश्यप, सामाजिक कार्यकता सुरेश भाटी, फील्ड आऊटरीच ब्यूरो प्रभारी अधिकारी श्री राम सहाय प्रजापति, स्वच्छता प्रेरक श्री यशवंत प्रजापति, श्री नागेश्वर भाटी ने सहभागिता करते हुये ग्रामवासियो को स्वच्छता को मिशन के रूप में लेते हुये ग्राम को स्वच्छ रखने हेतु प्रेरित किया। इस दौरान शासकिय माध्यमिक विधालय प्राचार्य श्री शांतिलाल, शिक्षक श्री सोहनलाल, ग्राम पंचायत सचिव श्री शिवनारायण वर्तिया, सहायक सचिव श्री भेरवलाल सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। इस अवसर पर उपस्थित ग्रामीणो ने स्वच्छता संबंधी प्रेेरक प्रश्नो के उत्तर दिये जिन्हें मंचासीन वक्ताओं द्वारा पुरस्कृत किया गया।
जिला स्वास्थ्य विभाग के मिडीया अधिकारी डॉ एमएल कश्यप ने ग्रामीणो को स्वच्छता हेतु प्रेरित करते हुये कहा कि आधे से अधिक बीमारियो का कारण बिना हाथ धोये खाना खाना और शौच के बाद हाथ नही धोना है। उन्होनें महात्मा गांधी का उदाहरण ग्रामवासियो से समक्ष रखते हुये कहा कि पहले हम स्वयं स्वच्छता को अपनाये फिर दुसरो को इसके लिये प्रेरित करे। एक परिवार से दुसरे परिवार जब स्वच्छता की अलख जगेगी तो ग्राम स्वयं ही स्वच्छ हो जायेगा।
सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश भाटी कहा कि ग्राम के स्वच्छ बनाने से लेकर के ग्राम के विकास में ग्रामीणो की सहभागिता बेहद जरूरी है। उन्होनें खुले में शौच के कारण होने वाले नुकसान से अवगत कराते हुये घरो मे कचरा संग्रहण हेतु डस्टबीन के उपयोग पर बदल दिया। इस दौरान उन्होनें ग्रामवासियो को शासन की नवीन योजनाओं की जानकारी देत हुये जनभागीदारी अपनाने हेतु प्रेरित किया।
फील्ड आऊटरीच ब्यूरो प्रभारी अधिकारी श्री राम सहाय प्रजापति ने कहा कि कचरे एवं गंदगी में बैठकर खाध पदार्थो पर बैठने वाली मक्खियां गंभीर बीमारियों का कारण बनती है। उन्होनें घरो से निकलने वाले सुखा कचरा एवं गीला कचरा को अलग- अलग संग्रहण करने पर बल देते हुये कहा कि इस कचरे के माध्यम से जैविक खाद का निर्माण किया जा सकता है जिसका उपयोग कर हम रासायनिक खाद के प्रयोग से बच सकते है।
इससे पूर्व स्वच्छता प्रेरक श्री यशवंत प्रजापति ने उपस्थित ग्रामीणो को स्वच्छता हेतु प्रेरित करते हुये कहा कि घर में शौचालय के बिना सबसे अधिक परेशानी महिलाओ को उठानी पडती है। उन्होनें अन्य कार्यो में अनावश्यक व्यय करने एवं शौचालय के मामले में कजुसी बरतने पर ग्रामवासियो को चर्चा के माध्यम से शौचालय निर्माण हेतु प्रेरित किया।
स्वच्छता प्रेरक श्री नागेश्वर भाटी ने उपस्थित विधालयीन बच्चो एवं ग्रामवासियो को हाथ धुलाई हेतु प्रेरित करते हुये कहा कि खाना खाने से पहले अनिवार्य रूप से हाथ धोये। हाथ धोने हेतु उन्होनें 6 स्टेप बताते हुये हाथ धोने के उपरांत गंदे कपडे या अन्य के माध्यम से इसे पोछने की बजाय हवा के माध्यम से सुखाने पर बल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *