खस्ताहाल हालत के बावजुद किया किसानो का कर्जा माफ-श्री शर्मा


प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता श्री शर्मा ने ली मंदसौर में पत्रकार वार्ता

मंदसौर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर मध्यप्रदेश के सभी 29 संसदीय क्षेत्र के मुख्यालय पर एक साथ प्रेस वार्ता का आयोजन संपन्न हुआ। मंदसौर में प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पंकज शर्मा ने जिला कांग्रेस कार्यालय पर पत्रकारो से चर्चा करते हुये जय किसान ऋण माफी योजना की विस्तृत जानकारी देते हुये प्रदेश में कमलनाथजी की सरकार द्वारा पिछले दो माह में किये गये विकास कार्यो का उल्लेख किया। इस दौरान जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडिया, प्रदेश कांग्रेस महामंत्रीगण राजेश रघुवंशी, महेन्द्रसिंह गुर्जर, कमलेश पटेल, जिला कांग्रेेस प्रवक्ता सुरेश भाटी सहित कई कांग्रेस नेता उपस्थित थे।
पहला वचन निभाया कर्जमाफी की ओर बढाया कदम
17 दिसंबर 2018 को श्री कमलनाथ ने शपथ लेते हुये सबसे पहले किसानो को दिया अपना वचन निभाया और दो लाख रूपये तक का प्रदेश के किसानो का जय किसान फसल ऋण माफी योजना की घोषणा की। उसके उपरांत 5 जनवरी 2019 को मंत्रीमंडल ने भी इस पर मोहर लगा दी। प्रदेश कांग्र्रेस प्रवक्ता श्री शर्मा ने कहा कि हमारी सरकार को आर्थिक रूप से बदहाल खजाना भाजपा सरकार से मिला था लेकिन उसके बावजुद किसानो का कर्जा माफ करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया। हमने जो वादा किया उसके निभाया है। हमारी सरकार के समक्ष चुनौती थी कि बीते पंद्रह सालो में भाजपा की सरपस्ती में हजारो करोड की किसानो के नाम पर फजी लोन बैको से जारी हुये थे। तब कांग्रेस सरकार ने तया किया था कि ऐसी प्रक्रिया अपनायी जायेगी कि किसानो को योजना का लाभ मिले और धोखाधडी करने वाले भी पकडे जाये। जिन किसानो का कर्जा माफ किया उनकी सूर्चिया बैक और सावर्जनिक स्थलो पर लगायी गयी।
22 फरवरी को किसान ऋण मुक्ति का होगा शंखनाद
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पंकज शर्मा ने बताया कि 22 फरवरी 2019 से किसानो को मिलना प्रारंभ हो जायेगा। पहले चरण में चालु खाते के 10 लाख तीस हजार किसानो को और खाता एनपीए को चुके है। 15 लाख 20 हजार किसानो अर्थात 25 लाख 50 हजार किसानो को इसका लाभ मिलेगा। किसानो के खाते में पैसा पहुंचना प्रारंभ हो जायेगा। इस जय किसान फसल ऋण माफी योजना में लगभग 50 लाख किसानो का चालिस हजार करोड रूपये का ऋ़ण माफ होगा।
नये अध्यक्ष का फैसला पुरी छानबीन के उपरांत
प्रदेश प्रवक्ता श्री शर्मा ने पत्रकारो द्वारा मंदसौर नपाध्यक्ष के मामले में उठाये गये प्रश्न के जवाब में कहा कि मंदसौर नपाध्यक्ष के लिये कोई देरी नही की जा रही है। किसे मनोनीत करना है, कौन योग्य है इस मामले में छानबीन की जा रही है। उन्होनें इस मामले में कांग्रेस पार्षदो द्वारा आपत्तियो को खारिज करते हुये कहा कि सभी के आपसी सामजस्य एवं सामुहिक निर्णय के आधार पर नपाध्यक्ष का फैसला शीघ्र हो जायेगा।
किसी को क्लिनचीट नही पुरानेी सरकार के आदेश को सुनाया
पत्रकारो द्वारा गृह मंत्री बाला बच्चन द्वारा सदन में दिये गये उत्तर के संदर्भ में कहा कि किसान गोलीकांड के मामले में किसी को क्लिनचीट नही दी गयी है। इस मामले में पिछली सरकार द्वारा प्रस्तुत निर्णय को सदन में पढकर सुनाया गया था। इस मामले में गृह मंत्री द्वारा स्पष्टीकरण दिया जा चुका है। उन्होनें पत्रकारो द्वारा इस मामले में पुछे गये प्रश्नो का जवाब देते हुये नवीन सरकार बनने के बाद कुछ समय मंत्रियो को कामकाज समझने में समय लगता है ऐसे में संभवत कोई गलतफहमी निर्मित हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *