पीसीपीएनडीटी की कार्यशाला में दी भू्रण हत्या के संबंध में जानकारी


मंदसौर। कलेक्टर श्री मनोज पुष्प द्वारा जनपद पंचायत में चल रही कन्या भ्रूण हत्या के संबंध में कार्यशाला का अवलोकन किया गया। जिले में कन्या भ्रूण हत्या को लेकर लोगों में जागरूकता आए इसके लिए पीसीपीएनडीटी एक्ट के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग द्वारा जनपद पंचायत मंदसौर में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला के माध्यम से आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका को कन्या भ्रूण हत्या के बारे में जागरूकता प्रदान की गयी। कार्यशाला के दौरान पुलिस अधीक्षक श्री विवेक अग्रवाल, सीईओ जिला पंचायत श्री आदित्य सिंह, स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास के जिला अधिकारी व कर्मचारी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका मौजूद थी।
कार्यशाला के दौरान कलेक्टर द्वारा बताया गया कि दस्तक अभियान मैं अपनी भागीदारी देना सुनिश्चित करें। इस अभियान को शासकीय अभियान बनाकर न छोड़े। अभियान की समयसीमा खत्म होने के बाद भी कार्य करते रहे। जब तक सभी बच्चे कुपोषण से पोषण की तरफ नहीं आते तब तक अभियान को चलने दे। अभियान के अंतर्गत बच्चे तो चिन्हित कर लिए जाते है, लेकिन सभी बच्चे भर्ती नहीं हो पाते, सभी बच्चे भर्ती हो, इसके लिए सभी अस्पतालों में अतिरिक्त बेड की व्यवस्था की गई है। दूसरी जगह से सोर्स मंगवाकर विशेष व्यवस्था की जा रही हैं। हर बच्चे को स्वास्थ्य लाभ मिले यह हमारी और आप सब की जिम्मेदारी हैं। आप सब से एक अपील है कि इस अभियान में व्यक्तिगत रुचि लेकर कार्य करें। प्रोफेशनल तरीके से नहीं। जिले के सेक्स रेशों के बारे में बताते हुए कहा कि हम सबको सेक्स रेशों बढ़ाने के लिए अपने – अपने स्तर से कोशिश करनी चाहिए। समाज को जागरुक करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं की एंट्री करते वक्त ध्यान रखा जाए, कि उनके पहले कितने बच्चे हैं। इसके पश्चात उनकी विशेष तौर पर समय-समय पर मॉनिटरिंग करते रहना चाहिए। ऐसे लोगों की पहचान करें, जहां से ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया जा सकता है।
इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी द्वारा बताया गया कि अगर कोई बच्चा 2 या 3 दिन से अपने सामान्य व्यवहार में बदलाव महसूस करता है, तो उस बच्चे से परिवार को बात करनी चाहिए। उसके व्यवहार में क्यों बदलाव आया उसके बारे में जानने की कोशिश करनी चाहिए। महिलाएं समाज की मूल इकाई है, समाज के लिए रीढ़ की हड्डी का कार्य करती हैं। समाज को एक दिशा प्रदान करती है। समाज मे नये परिवर्तन भी आपकी वजह से सम्भव हुवे है। जागरूक करने के कारण समाज की कुरीतियों में पहले और वर्तमान में बहुत कुछ बदलाव हुआ है और यह सब बदलाव आप सभी की मेहनत का परिणाम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *