डब्ल्यूएचओ की चेतावनी के बाद प्रशासन और नागरिको को कोरोना का सामना करने के लिये अधिक सर्तक रहने की आवश्यकता- श्री रातडिया


मंदसौर। जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री प्रकाश रातडिया ने कहा कि डब्लल्यूएचओ की चेतावनी के बाद प्रशासन और नागरिको को कोरोना का सामना करने के लिये अधिक सर्तक रहने की आवश्यकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंदसौर जिले की कोरोना की स्थिति का आंकलन करके यह चेतावनी दी है कि माह जून 2020 के अंत तक मंदसौर जिले में कोरोना पाॅजीटीव की संख्या 2000 तक हो सकती है। यह भी चेतावनी दी है कि अगले तीन चार माह में यह संख्या 14 हजार तक पहुंच सकती है। डब्ल्यूएचओं का आंकलन एवं चेतावनी मंदसौर जिलावासियो के लिये अत्यंत ही भयावह है तथा इसका सामना करने के लिये प्रशासन और लोगो को अधिक सर्तक और सावधान रहने की आवश्यकता है। आशंकित रोगियो के उपचार के प्रबंध का उल्लेख हो रहा है किन्तु इससे अधिक अच्छी स्थिति यह होगी कि अपने आचरण एवं व्यवहार एवं सर्तकता के माध्यम से डब्ल्यूएचओं के आंकलन एवं आशंका को लोग निमूल साबित कर दे। इसके  लिये कोरोना का सामना करने के लिये सर्वमान्य सावधानियो को अपनाना आवश्यक है।
        श्री रातडिया ने कहा कि लोक डाउन के कारण उच्च मध्यम एवं निम्न मध्यम वर्ग आर्थिक स्थिति के परिवार संकट में रहे है तथा वे लोक डाउन से मुक्ति के लिये आतुर थे। अब जब लोक डाउन समाप्त हो चुका है तब यह जरूरी है कि रोग से स्वयं का बचाव करे। लोक डाउन समाप्त हो जाने के बाद बाजार खुले व सामान्य जन जीवन शुरू हुआ किन्तु जिस तरह से शारिरीक दूरी, मास्क, स्वच्छता के पालन में लोग लापरवाही कर रहे है तथा इन सर्तकताओं के प्रति गंभीर नही है उससे रोग के खतरे की आशंका बरकरार रहती है। इसलिये लोग स्वेच्छता से इन सावधानियो का पालन करे। सामाजिक संस्थाये, समाजसेवी मानुभाव, प्रभुत्व जन व प्रत्येक जिम्मेदार नागरिक लोगो को जागरूक करने मे आगे आवे। प्रशासन रोग के उपचार के प्रबंधन की तैयारी के साथ-साथ सर्तकर्ताओं के प्रचार एवं लोग शिक्षण को भी अभियान के रूप में आरंभ करे। यदि सब मिलकर सर्तकताओं का पालन सुनिश्चित करेगे तो डब्ल्यूएचओ की चेतावनी सार्थक होगी और आसन्न रोग की व्यापकता से बच सकेगे। उन्होने समस्त कांग्रेसजनो से भी अनुरोध किया है कि वे इस जनजागरण  में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करे।