षड़यंत्र कर मध्यप्रदेश की निर्वाचित कांग्रेस सरकार गिराने की स्वीकारोक्ति शिवराजसिंह चौहान द्वारा करने पर मन्दसौर जिला एवं शहर कांग्रेस ने महामहीम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया


मन्दसौर – भाजपा के अलोकतांत्रिक एवं षड़यंत्र कर मध्यप्रदेश की निर्वाचित कांग्रेस सरकार गिराने की स्वीकारोक्ति शिवराजसिंह चौहान द्वारा करने पर मध्यप्रदेश कांग्रेस के आह्वान पर मन्दसौर जिला एवं शहर कांग्रेस ने महामहीम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया । ज्ञापन में बताया गया कि वर्ष 2019 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस को जनादेश मिला तथा यथाविधि निर्वाचन उपरांत श्री कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार स्थापित हुई । संवैधानिक रूप से जनादेश प्राप्त यह सरकार जन भावनाओं के अनुरूप कार्यरत थी । संविधान सम्मत सरकार को अपदस्थ करने के लिए भारतीय जनता पार्टी एवं इसके शीर्ष नेतृत्व के द्वारा षड्यंत्र किया गया । भय एवं प्रलोभन के आधार पर विधायकों को त्यागपत्र देने के लिए प्रेरित किया गया । अंततः त्याग पत्र के आधार पर 22 विधायकों के पद रिक्त हो जाने और तदनुसार कांग्रेस पक्ष का संख्या बल कम हो जाने एवं भाजपा के बहुमत में आ जाने के कारण कांग्रेस की सरकार अपदस्थ हो गई और असंवैधानिक तरीके से षड्यंत्र कर भाजपा ने अपनी सरकार बनाई ।कांग्रेस ने निरंतर भाजपा के इस अलोकतांत्रिक,अनैतिक एवं असंवैधानिक आचरण पर आक्षेप किया और जनता के बीच भी अपना पक्ष रखा । रिक्त हुए 22 स्थानों एवं दो दिवंगत विधायकों के रिक्त पदों इस प्रकार कुल 24 स्थानों के लिए होने वाले विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के इस आचरण के संबंध में जनता की राय अभिव्यक्त होगी किंतु भाजपा की ओर से निरंतर यह कहा जाता रहा कि कांग्रेस स्वयं अपने विधायकों का समर्थन यथावत नहीं रख पाई इस कारण सरकार ने बहुमत खोया है, इसमें भाजपा की कोई भूमिका नहीं है ।अभी हाल ही में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने एक भाषण में यह स्वीकारोक्ति की है कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देशानुसार मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराया गया है । उक्त भाषण की रिकॉर्डिंग भी मौजूद है । इस भाषण में श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और श्री तुलसी सिलावट के सहयोग से षड्यंत्र करके सरकार गिराने और भाजपा की सरकार स्थापित करने के तथ्य का उल्लेख किया है । इस प्रकार भाजपा का अब तक का यह कथन की मध्यप्रदेश की सरकार कांग्रेसी विधायकों के असंतोष के कारण गिरी है और भाजपा की कोई भूमिका नहीं है,मिथ्या साबित हुआ है ।भारत का लोकतंत्र नैतिकता लोकतंत्र के सर्वमान्य सिद्धांतों एवं संवैधानिक व्यवस्था पर आधारित है भाजपा का है आचरण इस मान्य परंपरा के विरुद्ध है असंवैधानिक है तथा लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए घातक है ।अतएव  कांग्रेस इस ज्ञापन के माध्यम से निवेदन करती है कि मध्यप्रदेश में अवश्य पदस्थ की गई श्री कमलनाथ के नेतृत्व की कांग्रेसी सरकार के प्रति किए गए  षड्यंत्र भय प्रलोभन एवं छल कपट पूर्ण व्यवहार एवं उसी आधार पर सरकार को अपदस्थ करने के तथ्यों से स्पष्ट हो जाने की वर्तमान स्थिति में श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में स्थापित वर्तमान भाजपा सरकार को बर्खास्त किया जाए तथा लोकतांत्रिक व्यवस्था को संरक्षण प्रदान किया जावे ।ज्ञापन प्रस्तुत करते समय कोविड 19 के नितमों का पालन करते हुए जिला एवं शहर कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल में जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडिया,प्रदेश कांग्रेस महामंत्री महेंद्र सिंह गुर्जर,शहर कांग्रेस अध्यक्ष मोहम्मद हनीफ शेख,जिला कांग्रेस महामंत्री एवं शहर कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष डॉ राघवेंद्रसिंह तोमर,शहर कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष अजय लोढ़ा,वरिष्ठ कांग्रेस नेता मोहनसिंह चौहान,पार्षद प्रतिनिधि शैलेंद्र गिरी गोस्वामी उपस्थित थे । नायब तहसीलदार श्री वैभव जैन को महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन प्रस्तुत किया गया ।