अध्यापकों को तीन माह में नहीं मिला वेतन, एम्पलाॅयी कोड जारी नहीं होने से अध्यापक परेशान शासकीय अध्यापक संगठन ने मुख्यमंत्री के नाम जिलाधीश को दिया ज्ञापन

मंदसौर। मप्र शासकीय अध्यापक संगठन के प्रांतीय आव्ह्ान पर 20 जुलाई 2020 को पूरे प्रदेशभर के जिला मुख्यालय पर संबंधित कलेक्टर्स को संगठन के पदाधिकारियों द्वारा वेतन ना मिलने सहित विभिन्न ज्वलन्त मांगों का निराकरण करवाने हेतु ज्ञापन दिए गए।
यह जानकारी देते हुए संगठन के जिलाध्यक्ष बालाराम सिसौदिया ने बताया कि मप्र के हजारों शिक्षक को विगत 3 माह से वेतन नहीं मिला है। साथ ही राज्य शिक्षा सेवा केडर के अंतर्गत प्रदेश के समस्त शिक्षकों के टेªजरी इम्पलाॅय कोड जारी होने थे। किन्तु अभी तक हजारों शिक्षक इस सुविधा से वंचित होने के कारण विगत 3 महीनों से वेतन के अभाव में भटक रहे हे। कई शिक्षकों के द्वारा बैंकों से ऋण ले रखे है। जिनकी किश्ते भरने की विकट समस्या उत्पन्न हो गई है।
संगठन ने अपनी मांग में – अध्यापक संवर्ग को नियमित वेतन भुगतान इम्पलाॅय कोड जारीकरने आईएफएमआईएस सिस्टम से वेतन भुगतान करने, एनपीएस कटौत्रा नियमितरूप से जमा करवाने, छठवें वेतनमान के एरियर्स की किश्तों का भुगतान सातवें वेतनमान का समान रूप से लाभ देना, पुरानी पंेशन योजना को पुनः बहाल करना, क्रमोन्नित व पदोन्नित का लाभ देना एवं अल्प बचत बीमा गृह भाड़ा भत्ता आदि मांगों का निराकरण करने हेतु मुख्यमंत्री के नाम जिलाधीश महोदय मंदसोर को ज्ञापन दिया गया। साथ ही मप्र लोक शिक्षक आयुक्त भोपाल को प्रदेश सहित मंदसौर जिले के हजारों अध्यापक ने ई – मेल से ज्ञापन भेजे गए।
ज्ञापन देने वालों में बालाराम सिसौदिया जिलाध्यक्ष, रोहितसिंह चैहान संभागीय अध्यक्ष, राधेश्याम व्यास जिला प्रवक्ता, औंाकारलाल भारती जिला संयोजक, शहजाद हुसैन शाह जिला उपाध्यक्ष, पारस नलवाया जिला उपाध्यक्ष, बी एल सुनार्थी, राजेश माली, अशोक नाथ, राजकुमार सांवरिया, कैलाशचन्द्र राठौर आदि अध्यापकगण उपस्थित थे।