कमलनाथजी के माफिया अभियान और पीसी शर्माजी के प्रयासो से मिला पशुपतिनाथ ट्रस्ट को भूमी का स्वामित्व-श्री भाटी


फरार तस्कर का मकान पूर्व मंत्री के दबाव में नही टूटा
मंदसौर। मध्यप्रदेश में अपने पंद्रह माह के कार्यकाल के दौरान माफिया सफाया अभियान चला उसके कारण एक तरफ अपराधियो पर खौफ स्थापित हुआ वही लंबे समय से धार्मिक जमीनो पर कब्जा करने वाले तत्वो को भी करारा सबक सीखाया गया। माफिया सफाया अभियान का ही प्रतिफल है कि भगवान श्री पशुपतिनाथजी को नेहरू बस स्टेण्ड के समीप ढाई सौ करोड की भूमी पर कब्जा हटा वही तत्कालिन धर्मस्य एवं जनसंपर्क मंत्री श्री पीसी शर्मा के प्रयासो से भगवान श्री पशुपतिनाथ ट्रस्ट को भूमी का स्वामित्व मिला है।
यह बात जिला कांग्रेस प्रवक्ता एवं राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस के अध्यक्ष सुरेश भाटी ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कही। उन्होनें कहा कि क्षेत्रीय सांसद श्री सुधीर गुप्ता माफिया सफाया अभियान के कारण मुक्त हुई पशुपतिनाथजी की भूमी मुक्ति एवं कब्जे के मामले में यश की राजनिति करना चाहते है जबकी हकीकत तो यह है कि कलेक्टर श्री मनोज पुष्य द्वारा माफिया अभियान से मुक्त हुई जमीन को लेकर के तत्कालिन धर्मस्य मंत्री श्री पीसी शर्मा के निर्देश पर ही जमीन पशुपतिनाथ मंदिर ट्रस्ट को सौपी थी जिसका वर्तमान में तार वेसिंग का कार्य ही हुआ है। उन्होनें माननीय कमलनाथजी द्वारा चलाये गये अभियान के निकले सार्थक परिणामो पर प्रकाश डालते हुये कहा कि प्रदेश में पंद्रह सालो में धर्म के नाम पर वोट लेने वाली भाजपा के राज में मंदिरो की भूमियो पर कब्जे हुये वही अपराधी तत्व और ताकतवर बनकर उभरे किन्तु प्रदेश में कमलनाथजी के आने के बाद माफिया राज को समाप्त करने का प्रयास हुआ था।
श्री भाटी ने शिवराजसिंह चौहान सरकार द्वारा कमलनाथजी के माफिया अभियान की नकल के नाम पर आमजन को गुमराह करने का आरोप लगाते हुये कहा कि कमलनाथजी का अभियान बिना किसी दबाव के चला लेकिन शिवराजसिंहजी के अभियान की पोल फरार तस्कर आरोपी और पूर्व मंत्री के परिवार के बीच हुये मकान विक्रय लेख से खुलती है जिसके कारण पुलिस और नपा फरार तस्कर का मकान पूर्व मंत्री के दबाव में तोडने की कार्यवाही नही कर पायी है। उन्होनें मध्यप्रदेश में शिवराजसिंह चौहान सरकार एवं उनके जनप्रतिनिधियो पर माफिया अभियान के नाम पर पक्षपात एवं संरक्षण प्राप्त अपराधियो को बचाने का आरोप है।