महू नीमच मार्ग की दुर्दशा का मुख्य कारण पानी निकासी के मार्गो पर अतिक्रमण-श्री भाटी


नपा और पीडब्ल्यूडी विभाग मौन, स्थायी समाधान के लिये अतिक्रमण चिन्हित कर हटाने की कार्यवाही करे

मंदसौर। लगातार कई सालो से महू नीमच मार्ग की दुर्दशा को लेकर के मंदसौर नगर के जाग्ररूक वर्ग द्वारा आवाज उठायी जा रही है। खासकर मानसून के दौरान मंडी से लेकर के गजराज जैन तोल नाके तक मार्ग की दुर्दशा बेहद खराब हो जाती है जिस पर मात्र राजनैतिक वातावरण के अनुसार जनप्रतिनिधिगण विरोध प्रदर्शन कर अपने दायित्व से पल्ला झाड लेते है। अगर वास्तव मे मार्ग की दुर्दशा सुधारना है तो पुरे क्षेत्र में पानी निकासी के मार्गो पर अतिक्रमण चिन्हित कर हटाने की कार्यवाही की जाना चाहिये जिससे मार्ग के लगातार खराब होने की समस्या का स्थायी समाधान हो सके।
जिला कांग्रेस प्रवक्ता सुरेश भाटी ने बताया कि मंडी से लेकर के वन विभाग तक महू नीमच मार्ग पर चलना बेहद मुश्किल है। सडक की एक तरफ की पट्टी जिस पर बडे-बडे गड्डे सडक की खस्ताहाल होने की कारण बता रहे है। उन्होनें स्मृति बैंक से लेकर गजराज जैन एण्ड कंपनी के तोल नाके पर पानी निकासी के मार्गो पर अतिक्रमण को सडक के खराब होने का मुख्य कारण होने का दावा करते हुये कहा कि पूर्व में भी इस सडक पर पेचवर्क किया जा चुका है और डामर के बावजुद फिर से सडक खराब हो जाती है। इस समस्या के समाधान के लिये संबधित पीडब्ल्यूडी विभाग एवं नपा का जागना बेहद जरूरी हैं। पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारी जिन्हें सडक के पानी निकासी के मार्गो पर अतिक्रमण की जानकारी होने के बावजुद वे लगातार मौन बने रहे है। नपा द्वारा भी अवैध निर्माण के मामले में पीडब्ल्यूडी विभाग के साथ तालमेल कर अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही नही की जिसके चलते अब लगातार हालात खराब होते जा रहे है।
श्री भाटी ने कलेक्टर श्री मनोज पुष्प से इस मामले में गंभीरता के साथ कार्यवाही करने का आग्रह करते हुये कहा कि यह मार्ग मंदसौर शहर की सूरत एवं आभामंडल प्रस्तुत करता है, ऐसे में सडक की दुर्दशा सुधारने के लिये अतिक्रमण को चिन्हित कर कार्यवाही की जाना चाहिये।