औदिच्य ब्राह्मण समाज द्वारा निःशुल्क सामूहिक विवाह का आयोजन सम्पन्न


मन्दसौर। सहस्त्र औदीच्य ब्राह्मण समाज द्वारा ग्राम अमलावद में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया। सामाजिक एकता एवं फिजूल खर्ची रोकने के उद्देश्य से आयोजित इस गरिमामय आयोजन के सूत्रधार औदिच्य समाज के अध्यक्ष दिनेशचंद्र जोशी रहे। श्री जोशी ने अपनी ओर से ही पूरे आयोजन का संचरण किया।
समाज अध्यक्ष श्री जोशी ने इस अवसर पर कहा कि समाज में एकता के साथ कोई भी कार्य करना कठिन नहीं है ब्राह्मण समाज एक आदर्शवादी समाज रहा है। इस समाज ने दूसरे समाज का मार्गदर्शन किया है। आज समाज को और अधिक सुदृढ़ और प्रबल होने की आवश्यकता है हमें बुराइयों से बचते हुए समाज हित में कार्य करने चाहिए। आपने बताया कि आखा तीज पर भी सामूहिक विवाह का आयोजन किया जाएगा।
समाज के युवा योगेंद्र जोशी ने कहा कि आज का यह सामूहिक विवाह का आयोजन निश्चित रूप से समाज की नई दिशा और दशा को तय करेगा। आज के जमाने में भाई-भाई का दुश्मन बन रहा है लड़ाई झगड़े हो रहे हैं धन व जमीन के आधार पर आपस में दुश्मनियां बढ़ रही है ऐसे समय में अध्यक्ष श्री जोशी द्वारा यह अनुकरणीय कार्य करना, समाज के लिए एक आदर्श उदाहरण है। श्री जोशी की सकारात्मकता समाज को आगे ले जाएगी।
कार्यक्रम को शिक्षाविद वल्लभ मेहता, महेश शर्मा, पूर्व अध्यक्ष कन्हैयालाल जोशी, रामचंद्र जोशी, रामनारायण शर्मा, हरीश जोशी, प्रकाश जोशी, नरेश जोशी सहित औदिच्य परिवार अमलावद के वरिष्ठजनों ने भी संबोधित किया। विवाह आचार्य पं. रामनारायण शर्मा द्वारा सम्पन्न कराये गये। कार्यक्रम का संचालन राधेश्याम शर्मा ने किया और आभार समाज के अध्यक्ष दिनेश जोशी ने माना। इस अवसर पर स्वजाती बंधुओं ने सामूहिक विवाह की भूरी भूरी प्रशंसा की। सम्मेलन में मंदसौर, नीमच, रतलाम, झाबुआ आदि क्षेत्रों से समाजजन कोविड-19 के तहत नियमों का पालन करते हुए उपस्थित हुए। उक्त जानकारी प्रवीण जोशी ने दी।

एक नजर