अभ्यर्थी तथा 4 अन्य अधिकृत व्यक्तियो को ही नामांकन पत्र दाखिल करते समय इसमे प्रवेश दिया जायेगा

मंदसौर- भारत निर्वाचन आयोग ने चुनाव में नामांकन दाखिल करते समय अभ्यर्थियों के साथ बड़ी संख्या में वाहन एवं व्यक्तियों के रिटर्निंग ऑफीसर के कार्यालय पहुँचने के मद्देनजर और कानून व्यवस्था की दृष्टि से अभ्यर्थी के दस्ते में या उसके साथ आने वाले वाहनों की अधिकतम संख्या रिटर्निंग ऑफीसर के कार्यालय के100 मीटर की परीधि के भीतर तीन वाहन एवं अधिकतम अभ्यर्थी सहित 5 व्यक्तियों को प्रवेश की अनुमति प्रदान की है।
आयोग ने 100 मीटर की परीधि को स्पष्ट रूप से चिन्हित किया है। अभ्यर्थी तथा 4 अन्य अधिकृत व्यक्तियो को ही नामांकन पत्र दाखिल करते समय इसमे प्रवेश दिया जायेगा। कानून व्यवस्था के लिए पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों को तैनात किया जायेगा। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 33 की उपधारा 6 के अधीन एक ही निर्वाचन क्षेत्र में निर्वाचन के लिए किसी अभ्यर्थी द्वारा उसकी ओर से अधिकतम केवल 4 नामांकन पत्र प्रस्तुत किये जा सकेंगे। उन्हें यह भीसुनिश्चित करना होगा कि एक ही अभ्यर्थी एक ही निर्वाचन क्षेत्र के लिये 4 सेट से अधिक नामांकन पत्र दाखिल न करें। यदि कोई अभ्यर्थी इस संख्या से अधिक नामांकन पत्र प्रस्तुत करना चाहता है तो ऐसा नामांकन पत्र स्वीकार नही किया जायेगा। विधि के उपबंधो के तहत न तो अभ्यर्थी को 4 से अधिक नामांकन पत्र प्रस्तुत करने का अधिकार है और न ही रिटर्निंग ऑफीसर को स्वीकार करने का अधिकार है। चार सेट नामांकनो को एक साथ या पृथक-पृथक रूप से दाखिल किया जा सकता है।
कोई भी अभ्यर्थी दो से अधिक निर्वाचन क्षेत्रों से नामनिर्देशित नही कर सकता है। यदि अभ्यर्थी उपबंध का उल्लंघन करता है और एक ही वर्ग के दो से अधिक निर्वाचन क्षेत्रों से निर्वाचन के लिए नामांकन पत्रों को दाखिल करता है तो उसके नामांकन पत्रों को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा33 (7) के उपबंधो का अनुपालन नहीं करने की वजह से रिटर्निंग अधिकारी द्वारा नामांकन अस्वीकार कर दिया जायेगा।
अभ्यर्थी या उसके प्रस्तावक से हस्ताक्षर द्वारा अपना पूरा नाम लिखना अपेक्षित नहीं है। यह जरूरी नहीं है कि नामांकन पत्र पर किये गये हस्ताक्षर निर्वाचन नामावली में यथा मुद्रित व्यक्ति के पूरे नाम से ठीक-ठाक मिलता हो। यदि वह अपने हस्ताक्षर को सामान्य रूप से अपनाता है, अर्थात एक या एक से अधिक आद्यावार और उसके बाद उपनाम तो, इसे अधिनियम के प्रयोजनों के लिए विधिमान्य हस्ताक्षर माना जायेगा। एक प्रस्तावक एक ही अभ्यर्थी या विभिन्न अभ्यर्थियों के एक से अधिक नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। प्रस्तावक के रूप में नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर करने के बाद प्रस्तावक नाम वापस नहीं कर सकता है। यदि कोई अभ्यर्थी या उसका प्रस्तावक अपने हस्ताक्षर को दर्शाने के लिए अपना नाम लिखने में असमर्थ है तो उसे नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर किया हुआ माना जायेगा। साथ ही यदि उसने रिटर्निंग ऑफीसर की उपस्थित में उस पत्र पर कोई चिन्ह या अंगूठे का निशान लगाया है, तो उस व्यक्ति की पहचान के बारे में समाधान हो जायेगा।
टोल फ्री नम्बर 1950 पर 24 घण्टे हो रही है सुनवाई
मंदसौर 1 नवम्बर 18/ विधानसभा निर्वाचन 2018 अंतर्गत शिकायतों के निराकरण के लिये प्रभावी व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। राज्य स्तर पर संचालित कॉल सेंटर का टोल फ्री नम्बर 1950 पर लगातार 24 घण्टे काम हो रहा है। प्राप्त शिकायतों को नेशनल ग्रेवियेंस सर्विसेज पोर्टल पर भी दर्ज किया जा रहा है। प्रत्येक जिले में कांटेक्ट सेन्टर के माध्यम से प्रति दिन मॉनीटरिंग की जा रही है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय को प्राप्त हो रही शिकायतों को भी डिजिटाइज कर समय-सीमा में उनका निराकरण किया जा रहा है।
राजनैतिक दलों द्वारा की जा रही शिकायतों के संधारण हेतु प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की वेबसाइट का अलग से मॉड्यूल तैयार किया गया है। इसके माध्यम से समस्त राजनैतिक दलों द्वारा की गई सभी प्रकार की शिकायतों के निराकरण की स्थिति उनके द्वारा वेबसाइट पर देखी जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *