कर्ज माफी के बाद सरकार पेंशन देने की तैयारी में, भाजपा सत्ता जाने के बाद कर्ज माफी वाले किसानो को बता रही है बेईमान- श्री भाटी


मंदसौर। प्रदेश में पंद्रह सालो की बदहाली के बाद छिन्दवाडा के विकास पुरूष श्री कमलनाथजी ने प्रदेश की बागडोर संभालने के बाद लगातार जनहितेशी निर्णय लेती जा रही है। शपथ लेने के बाद कर्जमाफी का फैसला, युवाओ के लिये रोजगार के साथ ही सरकार ने फिजूुलखर्ची रोकने हेतु प्रभावी कदम उठाये है। पिछले दिनों सरकार ने आगामी 1 अप्रेल से साठ साल से उपर किसानो को एक हजार रूपये प्रतिमाह पेंशन देने की कार्ययोजना पर कार्य शुरू कर दिया है वही दुसरी ओर भाजपा ने सरकार जाने की छटपटाहट में कर्ज माफी योजना से खिन्न होकर कर्ज माफी वाले किसानो को बेईमान और चोर लोगो का कर्जा माफ वाली बाते कहना शुरू कर दिया है जो सीधे रूप से किसानो का अपमान है।
जिला कांग्रेस प्रवक्ता श्री सुरेश भाटी ने बताया कि विगत पंद्रह सालो में भाजपा की सरकार ने केवल विकास के नाम पर बिना ठोस आधार की योजनाएॅ प्रदेश में लाकर विकास की बजाय नागरिको को लालच देकर छलने का कार्य किया है। प्रदेश में बिना किसी वित्तीय बजट के श्रमिक योजना एवं विघुत हेतु संबल योजना लायी लेकिन उनके बजट की व्यवस्था नही कर पायी जिसके कारण दोनो योजनाओं का भार और बकाया राशि भी सरकार के मत्थे संबंधित विभागो ने डाल दी है। श्री भाटी ने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार श्री कमलनाथी के नेतृत्व में किसानो को कर्ज माफी के बाद साठ साल से उपर के किसानो को पेंशन देने की योजना पर कार्य शुरू किया है जो देश में अनूठा उदाहरण होगा। उन्होनें भाजपा कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारियो द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में कर्ज माफी योजना को चोर एवं बेईमान लोगो की कर्ज माफी वाले बयानो एवं व्यंग्यो की निंदा करते हुये कहा कि किसानो पर कर्जा इसी कारण हुआ क्योकि किसानो की आर्थिक हालात केन्द्र में भाजपा सरकार आने के बाद टूटी, किसानो को भाव नही मिलने एवं लागत बढने के कारण किसान कर्जे में डूबते चले गये जिसके कारण हजारो किसानो ने आत्महत्याये की है।
श्री भाटी ने जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष के उस बयान की निंदा की है जिसमें उन्होनें कर्ज माफी को धोखा बताया था, उन्होनें कहा कि जिला सहकारी बैंक के अधीन सोसायटीयो में बडे पैमाने पर आचार संहिता के दौरान यूरिया की कालाबाजारी की गयी, सहकारिता में आरटीआई लागु नही होने के नियम के कारण बडै पैमाने पर जिला सहकारी बैंक में खपले है जिसकी आगामी दिनो में मंत्री मंडल गठन के उपरांत सहकारिता मंत्री के माध्यम से जांच करवायी जायेगी।

एक नजर