मंदसौर। देश के सबसे व्यस्त मार्गो में सेएक नयागांव लेबड फोरलेन सडक मौत का दुसरा नाम बन चुकी है। प्रतिदिन पुरे मार्ग पर छोटी.छोटी सडक दुर्घटनाओ के अतिरिक्त बडी सडक दुर्घटनो की लिस्ट लंबी होती जा रही है किन्तु आज दिन तक नयागांव लेबड मार्ग के 26 ब्लेक पांईट जो कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा गठित विधायको की समिति द्वारा चिन्हित किये गये थे उस पर सुधार आज दिन तक नही हुआ।
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं जिला किसान कांग्रेस के प्रभारी श्री प्रवीण मंागरिया ने कहा कि सन लगभग 2008 में निर्मित नयागांव लेबड फोरलेन सडक पर प्रतिदिन स्थानीय स्तर पर सडक दुर्घटनाओ के समाचार प्रकाशित होते है और लगातार होती दुर्घटनाओ के चलते उन घटनाओ को भूला भी दिया जाता है। पिछले दिनो एक बडी सडक दुर्घटना में मनासा के समीप एक ग्राम का पुरा परिवार मौत के मुंह में चला गया किन्तु यह घटना भी एक आम घटना की तरह भूला दी गयी है किन्तु न तो सुधार हेतु गठित समिति के विधायकगण चिंतित है और नही भविष्य में कार्यवाही की उम्मीद है।
श्री मांगरिया ने कहा कि पूर्व में स्वयं विधायको की ओर से गठित समिति के सुझावो पर अमल नही होने का मामला गत वर्ष जावरा विधायक श्री राजेन्द्र पांडेय ने उठाया था किन्तु भाजपा विधायक की बात को तवज्जो देना तो दूर आज दिन तक कार्य नही हुये। श्री मांगरिया ने इस बात का उल्लेख करते हुये कहा कि बीओटी के तहत निर्मित सडक के मामले में लागत से कई गुना राशि की वसुली निर्माण कंपनी द्वारा वसुली जा चुकी है किन्तु भरपुर कमाई करने के बावजुद कंपनी द्वारा सडक बनाने में जो कमिया है उसे दूर नही किया गया है।
श्री मांगरिया ने मौत का दुसरा नाम बन चुकी नयागांव लेबड फोरलेन सडक में कमियां एवं चिन्हित ब्लेक स्पॉट को सुधार हेतु मध्यप्रदेश शासन के लोकनिर्माण विभाग से मार्ग करते हुये कहा कि अगर अब भी शासन नही जागा तो आने वाले दिनो में ओर भी जाने जायेगी जिसके लिये सिर्फ शिवराजसिंह चौहान सरकार दोषी होगी।