मंदसौर। जिला कांग्रेस प्रवक्ता सुरेश भाटी ने बताया कि मंदसौर गौरव दिवस के उपलक्ष्य मेें आम नागरिको, व्यापारियो के साथ ही प्रशासनिक अमले को झोंकने के बावजुद मंदसौर गौरव दिवस कार्यक्रम में आम नागरिको की भागीदारी पर्याप्त नही हो पायी। रैली में मंदसौर नगर सहित मल्हारगढ, सीतामऊ, मंदसौर विकासखंड की आंगवाडी कार्यकर्ताओं को रैली एवं कॉलेज मैदान परिसर तक सीएम के कार्यक्रम में लगाया गया जिसके चलते भारत निर्वाचन आयोग द्वारा अंतिम दिवस 8 दिसंबर तक मतदाता सूची में दावे आपत्तियो का कार्य प्रभावित हुआ क्योंकि अधिकांश आंगवाडी कार्यकर्ता ही बीएलओ का कार्य कर रही थी।
श्री भाटी ने बताया कि जिन मतदान केन्द्रो पर शिक्षक या अन्य कर्मचारी स्टॉफ था वहां पर बीएलओ के स्थान पर अन्य ने जैसे तैसे आवेदन तो ले लिया किन्तु जो मतदान केन्द्र मंागलिक भवन, आंगनवाडी या अन्य स्थान पर थे उन स्थानो पर ताले लगे रहे जिसके कारण अंतिम दिवस मतदान केन्द्र पर नाम जुडवाने वाले नागरिक व अन्य परेशान रहे। उन्होनें कहा कि लगातार भारतीय जनता पार्टी की सरकार में सरकारी कार्यक्रम बिना आंगवाडी कार्यकर्ता, उषा एवं आशा कार्यकर्ता के बिना संभव नही हो पा रहे है, मंदसौर गौरव दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के आगमन पर भी आंगनवाडी कार्यकर्ताओ को बुलाया गया जिसके कारण बीएलओ के रूप में सेवाये दे रही आंगवाडी कार्यकर्ता भारत निर्वाचन द्वारा जारी कार्यक्रम के तहत 8 दिसंबर को अपनी सेवाये केन्द्र पर नही दे पायी है। उन्होनें इस संदर्भ में निर्वाचन प्रेषक श्री शोभित जैन से आग्रह किया है कि इस गंभीर मामले में जिला प्रशासन से जवाब तलब करे।